'सबद-लोक’ हमारी अनियतकालीन पत्रिका है जहाँ हम ‘धरोहर’ स्तंभ को छोड़कर अन्य सभी स्तंभों के लिये सिर्फ़ अप्रकाशित-अप्रसारित रचनाएँ ही लेते हैं। अत: जैसे-जैसे हमें आपकी पत्रिकानुकूल सामग्री प्राप्त होगी, उन्हें देखकर शीघ्र ही यहाँ लगाने का यत्न करेंगे और आपको उसके छपने की सूचना भी देंगे। पत्रिका के विविध स्तंभों के लिये आपकी रचनायें सादर आंमंत्रित हैं। अपनी रचनायें हमें कृपया युनिकोड फॉन्ट में ही उपलब्ध करायें। साथ में अपना फोटो, संपर्क-सूत्र और संक्षिप्त परिचय देना न भूलें। कृपया इस ई-पते पर पत्राचार करें और अपनी रचनायें भेंजें: sk.dumka@gmail.com > निवेदक- संपादक मंडल, ‘सबद-लोक’।

सबद-लोक का सदस्य बनें और नये पोस्ट की सूचना लें:

ईमेल- पता भरें:

  पप्‍पू का रिसेंट फोटो देखना मत भूलियेगा

Saturday, January 30, 2010


पप्‍पू ने बांध दिया
बांध दिया मजा
जा रहे थे सड़क
सड़क
लिखा देगा दीवार पर
कुछ कड़क
दिमाग गया पप्‍पू का
तुरंत सरक

... पढ़ने वाला गधा


वहीं रूक गये
कदमों में दम था
पर वहीं जम गये
जमे रहे कई घंटे
मौसम कई बदले
फिर बदला दिमाग

लिखी लाईनों को मिटाया
उनकी जगह जवाब जमाया
लिखने वाला गधा।


गधा सीधा सादा
पूरा नहीं आधा।

8 comments:

Udan Tashtari January 30, 2010 at 5:21 AM  

जय हो पप्पू की.

HARI SHARMA January 30, 2010 at 7:05 AM  

पप्पू को सलाम
हर गधे को सलाम

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक January 30, 2010 at 10:45 AM  

मन को भाया बहुत कलाम!
गर्दभ राजा तुम्हें सलाम!!

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर January 30, 2010 at 1:25 PM  

अब इसको मिटा कर लिखा "टिप्पणी करने वाला !!!!!!!!"
पप्पू की फोटो सुन्दर,
पप्पू का राग सुन्दर,
पप्पू का अंदाज सुन्दर
पर.....
पप्पू कांट ??????????????

Anonymous January 30, 2010 at 2:56 PM  

de diya hain netiyo ke haath desh ka chappu.mahagayie ki maar se janata ban gai pappu.

alka sarwat January 30, 2010 at 4:25 PM  

अगर आप गधे को बदनाम करेंगे तो फिर अपने कपड़ों का बीमा करवा डालिए ,तभी खैर है....

काजल कुमार Kajal Kumar January 30, 2010 at 10:50 PM  

गधा गधा ही रहता है
उसका कुछ नहीं हो सकता
बल्ले बल्ले

मनोज कुमार January 31, 2010 at 6:51 PM  

देखते-देखते ही
पप्पू हर कला में
माहिर हो गया
इसी लिये ही तो
पप्पू का फोटो
जग ज़ाहिर हो गया!!

नीचे बॉक्स में लिंकों को क्लिक कर आप संबंधित पोस्ट को पढ़ सकते हैं -

लिंक-प्रतीक-चिन्ह (LOGO) - सबद-लोक

सबद-लोक

मार्गदर्शन -

* सम्पादन -सहयोग : अरविन्द श्रीवास्तव,मधेपुरा , अशोक सिंह (जनमत शोध संस्थान, दूमका), ,अरुण कुमार झा

* सहायता तकनीकी:अंशु भारती

सबद-लोक का लिंक-लोगो लगायें -

अपनी मौलिक-अप्रकाशित रचनायें कृपया इस पते पर प्रेषित करें -

  • डाक का पता- हंसनिवास, कालीमंडा,
  • हरनाकुंडी रोड,पोस्ट-पुराना दुमका,जिला- दुमका (झारखंड) - 814 101
  • ई-पता = sk.dumka@gmail.com
  • और mail@sushilkumar.net
-:लेखा-जोखा:-

__________

______________

  © Blogger templat@सर्वाधिकार : सुशील कुमार,चलभाष- 09431310216 एवं लेखकगण।

Back to TOP