'सबद-लोक’ हमारी अनियतकालीन पत्रिका है जहाँ हम ‘धरोहर’ स्तंभ को छोड़कर अन्य सभी स्तंभों के लिये सिर्फ़ अप्रकाशित-अप्रसारित रचनाएँ ही लेते हैं। अत: जैसे-जैसे हमें आपकी पत्रिकानुकूल सामग्री प्राप्त होगी, उन्हें देखकर शीघ्र ही यहाँ लगाने का यत्न करेंगे और आपको उसके छपने की सूचना भी देंगे। पत्रिका के विविध स्तंभों के लिये आपकी रचनायें सादर आंमंत्रित हैं। अपनी रचनायें हमें कृपया युनिकोड फॉन्ट में ही उपलब्ध करायें। साथ में अपना फोटो, संपर्क-सूत्र और संक्षिप्त परिचय देना न भूलें। कृपया इस ई-पते पर पत्राचार करें और अपनी रचनायें भेंजें: sk.dumka@gmail.com > निवेदक- संपादक मंडल, ‘सबद-लोक’।

सबद-लोक का सदस्य बनें और नये पोस्ट की सूचना लें:

ईमेल- पता भरें:

  पैसा है पप्‍पू के पास इसलिए मिल रही है सूखी घास

Saturday, January 9, 2010


तू तू है
मैं मैं हूं
तू मैं है
मैं तू हूं
तू मैं
मैं तू
तू तू मैं मैं

पप्‍पू चिल्‍लाया
इतनी बढि़या कार
उससे शानदार बंगला
उसमें ऐशो आराम
सब बदौलत मेरे पैसे की है

पत्‍नी ने सहज भाव से
तुरंत स्‍वीकार लिया
हल्‍के से कह दिया
सुन लो जी कान खोलकर
चिल्‍लाऊंगी नहीं
और न बोलूंगी जोर से
गर पैसा न होता
तुम्‍हारे पास
मैं भी क्‍यों कर डालती
तुम्‍हें सूखी घास।

9 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक January 9, 2010 at 6:36 AM  

आखिर दिल की बात जुबाँ पर आ ही गई!

अविनाश वाचस्पति January 9, 2010 at 8:01 AM  

काश !
सभी दिलों में
जुबां जुड़ जाये।

विनोद कुमार पांडेय January 9, 2010 at 8:29 AM  

पप्पू को एक जोरदार झटका..पत्नी का सनसनीखेज खुलासा ..

मनोज कुमार January 9, 2010 at 8:45 AM  

उसका
मान-सम्मान
हरी घास हो गया .. !!!
जीवन का इम्तहान
पप्पू पास हो गया ... ???

HARI SHARMA January 9, 2010 at 9:33 AM  

बेटा पप्पू शादी हो गई गनीमत है वर्ना साखी धावन्त जैसी मिलती तो सब पैसा धराके कह देती कि अब आप जा सकते है और ये सब जो तुमने दिया है इसके लिये शुक्रिया पर फिर से नज़र नही आना नही तो महिला उत्पीडन का आरोप लगा दुन्गी.

vedvyathit January 9, 2010 at 10:31 AM  

jb lg paisa ganth me tb lg tako yar
yh purani khavt hai
duniya ki schchai aur
paise ki takt hai
papuki ptni kya
bhgvan bhi nhi rijhenge
bina paise to
krm kand bhi nhipoore honge
isi leye chanky ne thik smjha tha ki
prithvi arth pr gumti hai
isi liye papu ki ptni kya
sari duniya hi paise pr ghoomti hai
dr.vedvyathit@gmail.com

Kuldeep Saini January 9, 2010 at 10:55 AM  

पप्पू को जब देखो तब कोई भी पप्पू बना जाता है ! बहुत खूब लिखा है आपने मेरे ब्लॉग http://hansodilse.blogspot.com/ पर आये वहा भी आपको एक पप्पू मिलेगा

विवेक शर्मा January 9, 2010 at 10:57 AM  

आखिर नारी चरित्र सामने आ ही गया ! बहुत खूब !

अवनीश एस तिवारी January 9, 2010 at 10:59 AM  

पप्पू और पत्नी जोरदार है इस बार की कड़ी

अवनीश तिवारी
मुम्बई

नीचे बॉक्स में लिंकों को क्लिक कर आप संबंधित पोस्ट को पढ़ सकते हैं -

लिंक-प्रतीक-चिन्ह (LOGO) - सबद-लोक

सबद-लोक

मार्गदर्शन -

* सम्पादन -सहयोग : अरविन्द श्रीवास्तव,मधेपुरा , अशोक सिंह (जनमत शोध संस्थान, दूमका), ,अरुण कुमार झा

* सहायता तकनीकी:अंशु भारती

सबद-लोक का लिंक-लोगो लगायें -

अपनी मौलिक-अप्रकाशित रचनायें कृपया इस पते पर प्रेषित करें -

  • डाक का पता- हंसनिवास, कालीमंडा,
  • हरनाकुंडी रोड,पोस्ट-पुराना दुमका,जिला- दुमका (झारखंड) - 814 101
  • ई-पता = sk.dumka@gmail.com
  • और mail@sushilkumar.net
-:लेखा-जोखा:-

__________

______________

  © Blogger templat@सर्वाधिकार : सुशील कुमार,चलभाष- 09431310216 एवं लेखकगण।

Back to TOP