'सबद-लोक’ हमारी अनियतकालीन पत्रिका है जहाँ हम ‘धरोहर’ स्तंभ को छोड़कर अन्य सभी स्तंभों के लिये सिर्फ़ अप्रकाशित-अप्रसारित रचनाएँ ही लेते हैं। अत: जैसे-जैसे हमें आपकी पत्रिकानुकूल सामग्री प्राप्त होगी, उन्हें देखकर शीघ्र ही यहाँ लगाने का यत्न करेंगे और आपको उसके छपने की सूचना भी देंगे। पत्रिका के विविध स्तंभों के लिये आपकी रचनायें सादर आंमंत्रित हैं। अपनी रचनायें हमें कृपया युनिकोड फॉन्ट में ही उपलब्ध करायें। साथ में अपना फोटो, संपर्क-सूत्र और संक्षिप्त परिचय देना न भूलें। कृपया इस ई-पते पर पत्राचार करें और अपनी रचनायें भेंजें: sk.dumka@gmail.com > निवेदक- संपादक मंडल, ‘सबद-लोक’।

सबद-लोक का सदस्य बनें और नये पोस्ट की सूचना लें:

ईमेल- पता भरें:

  पप्‍पू दीवाना हो गया है

Saturday, December 5, 2009


पप्‍पू हमारा दीवाना हो गया है
मेट्रो में चढ़ा और पूछा
एयरपोर्ट तक का टिकट
है कितने का ?

जवाब मिला
70 रुपये का
बिना रूके बोला
ठीक ठीक लगाओ
10 ले लेंगे।

500 रूपये में मान जाओ
नहीं तो बस में चले जायेंगे
लेकिन तुरंत लौट कर आया
बस का टिकट मेट्रो से भी
जब विकट महंगा है पाया।

4 comments:

M VERMA December 5, 2009 at 4:27 AM  

इसमे दीवानगी की क्या बात है! मोल-भाव तो करना ही होता है

काजल कुमार Kajal Kumar December 5, 2009 at 5:39 AM  

ये एअरपोर्ट वाली मेट्रो तो धरी की धरी ही रह जाएगी.
100 रूपये की टिकट !
पता नहीं किस पट्ठे ने इन्हें बता दिया है कि अब एअरपोर्ट जाने वाला हर आदमी इन्हीं की मेट्रो में जाएगा...
देख लेना खाली चला करेगी ये...पूरा दिन. सुबह शाम कुछ फ्लाइट्स के वक़्त को छोड़कर.
फिर या तो ये थूक कर चाटेंगे या फिर सवारियां इकट्ठी होने पर ही चलाया करेंगे.. ब्लूलाईन बसों की ही तरह.

Vivek Rastogi December 5, 2009 at 11:09 AM  

वैसे काजल कुमार जी की बात सही है, पर जिसको मजे लेना है और जो सुविधाऎं उठाना चाहता है उसके लिये ये १०० रुपये भी ठीक है। कम से कम बिना ट्राफ़िक पहुँच पायेगा।

Murari Pareek December 6, 2009 at 11:03 AM  

sahi hai mrp pe bhi to mol bhaaw kar hi sakte hai so ticket pe kyon nahi!!! jaago yatri jaago!!!

नीचे बॉक्स में लिंकों को क्लिक कर आप संबंधित पोस्ट को पढ़ सकते हैं -

लिंक-प्रतीक-चिन्ह (LOGO) - सबद-लोक

सबद-लोक

मार्गदर्शन -

* सम्पादन -सहयोग : अरविन्द श्रीवास्तव,मधेपुरा , अशोक सिंह (जनमत शोध संस्थान, दूमका), ,अरुण कुमार झा

* सहायता तकनीकी:अंशु भारती

सबद-लोक का लिंक-लोगो लगायें -

अपनी मौलिक-अप्रकाशित रचनायें कृपया इस पते पर प्रेषित करें -

  • डाक का पता- हंसनिवास, कालीमंडा,
  • हरनाकुंडी रोड,पोस्ट-पुराना दुमका,जिला- दुमका (झारखंड) - 814 101
  • ई-पता = sk.dumka@gmail.com
  • और mail@sushilkumar.net
-:लेखा-जोखा:-

__________

______________

  © Blogger templat@सर्वाधिकार : सुशील कुमार,चलभाष- 09431310216 एवं लेखकगण।

Back to TOP