'सबद-लोक’ हमारी अनियतकालीन पत्रिका है जहाँ हम ‘धरोहर’ स्तंभ को छोड़कर अन्य सभी स्तंभों के लिये सिर्फ़ अप्रकाशित-अप्रसारित रचनाएँ ही लेते हैं। अत: जैसे-जैसे हमें आपकी पत्रिकानुकूल सामग्री प्राप्त होगी, उन्हें देखकर शीघ्र ही यहाँ लगाने का यत्न करेंगे और आपको उसके छपने की सूचना भी देंगे। पत्रिका के विविध स्तंभों के लिये आपकी रचनायें सादर आंमंत्रित हैं। अपनी रचनायें हमें कृपया युनिकोड फॉन्ट में ही उपलब्ध करायें। साथ में अपना फोटो, संपर्क-सूत्र और संक्षिप्त परिचय देना न भूलें। कृपया इस ई-पते पर पत्राचार करें और अपनी रचनायें भेंजें: sk.dumka@gmail.com > निवेदक- संपादक मंडल, ‘सबद-लोक’।

सबद-लोक का सदस्य बनें और नये पोस्ट की सूचना लें:

ईमेल- पता भरें:

  पप्‍पू टीना के साथ सोते हुए पकड़ा गया था

Saturday, November 28, 2009


मुन्‍ना ने जब अपनी पत्‍नी
टीना से पप्‍पू को मिलवाया
तो पप्‍पू का जवाब सुन
दिमाग उसका चकराया।

पप्‍पू बोला जानता हूं मैं इसे
हम साथ सोते पकड़े गए थे
क्‍या बकवास कर रहे हो
मुन्‍ना तो भन्‍ना गया।

बकवास नहीं कर रहा हूं
कह रहा हूं बिल्‍कुल सच
हम दोनों गणित की कक्षा में
सोते हुए पकड़े गए थे जब
मास्‍टर ने खूब डांटा था इसको
और मारा था चांटा मुझे तब
याद है न टीना तुम्‍हें
भूली तो नहीं हो न तुम।

7 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar November 28, 2009 at 5:44 AM  

वाह भई पप्पू तेरी पप्पुआई...

Udan Tashtari November 28, 2009 at 7:28 AM  

बड़ा कन्फ्यूजन है भई!! :)

जी.के. अवधिया November 28, 2009 at 8:57 AM  

सही बात है! पप्पू झूठ नहीं बोलता।

मनोज कुमार November 28, 2009 at 10:17 AM  

इस रचना का सहज हास्य मन को गुदगुदा देता है। आपके पास हास्य चित्रण की कला है। बधाई स्वीकारें।

HARI SHARMA November 28, 2009 at 11:10 AM  

भाइ मुझे तो लगता है पप्पू को बात सम्भालना आ गया है. और आप भी हमेशा यद रखना कि कोइ भी पप्पू २४ घन्टे पप्पू ही नही रहता. हम सब भी कभी पप्पू थे.

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' November 28, 2009 at 8:51 PM  

पप्पू सोया ही था न ?
तब कोई बात नहीं टीना के लिए ज़रूर हादसा हो सकता है
पर पप्पू का चरित्र बेदाग़ है यदि वो तब सो रहा था

अनिल कान्त : November 28, 2009 at 8:51 PM  

:)

नीचे बॉक्स में लिंकों को क्लिक कर आप संबंधित पोस्ट को पढ़ सकते हैं -

लिंक-प्रतीक-चिन्ह (LOGO) - सबद-लोक

सबद-लोक

मार्गदर्शन -

* सम्पादन -सहयोग : अरविन्द श्रीवास्तव,मधेपुरा , अशोक सिंह (जनमत शोध संस्थान, दूमका), ,अरुण कुमार झा

* सहायता तकनीकी:अंशु भारती

सबद-लोक का लिंक-लोगो लगायें -

अपनी मौलिक-अप्रकाशित रचनायें कृपया इस पते पर प्रेषित करें -

  • डाक का पता- हंसनिवास, कालीमंडा,
  • हरनाकुंडी रोड,पोस्ट-पुराना दुमका,जिला- दुमका (झारखंड) - 814 101
  • ई-पता = sk.dumka@gmail.com
  • और mail@sushilkumar.net
-:लेखा-जोखा:-

__________

______________

  © Blogger templat@सर्वाधिकार : सुशील कुमार,चलभाष- 09431310216 एवं लेखकगण।

Back to TOP