'सबद-लोक’ हमारी अनियतकालीन पत्रिका है जहाँ हम ‘धरोहर’ स्तंभ को छोड़कर अन्य सभी स्तंभों के लिये सिर्फ़ अप्रकाशित-अप्रसारित रचनाएँ ही लेते हैं। अत: जैसे-जैसे हमें आपकी पत्रिकानुकूल सामग्री प्राप्त होगी, उन्हें देखकर शीघ्र ही यहाँ लगाने का यत्न करेंगे और आपको उसके छपने की सूचना भी देंगे। पत्रिका के विविध स्तंभों के लिये आपकी रचनायें सादर आंमंत्रित हैं। अपनी रचनायें हमें कृपया युनिकोड फॉन्ट में ही उपलब्ध करायें। साथ में अपना फोटो, संपर्क-सूत्र और संक्षिप्त परिचय देना न भूलें। कृपया इस ई-पते पर पत्राचार करें और अपनी रचनायें भेंजें: sk.dumka@gmail.com > निवेदक- संपादक मंडल, ‘सबद-लोक’।

सबद-लोक का सदस्य बनें और नये पोस्ट की सूचना लें:

ईमेल- पता भरें:

  पप्‍पू की करतूत कहेंगे आप या कहेंगे कारनामा ?

Saturday, September 26, 2009


अब तो हो गई है शादी
इससे पहले पप्‍पू
नहीं था निरा पप्‍पू
कुछ गप्‍पू भी था।

बड़े छोटों के काटता था कान
हज्‍जाम नहीं था होता तो
उस्‍तरा चलाता गाल पर
सिर्फ काटता होता बाल।

एक दिन अपने मित्र
मुन्‍ना के साथ गया
दिल्‍ली रेलवे स्‍टेशन
और दिल दे बैठा।

पूछताछ खिड़की पर
हुआ जाकर जब खड़ा
बैठी सुंदरी ने पूछा
यस प्‍लीज,
कुछ पूछना चाहते हो ?

पप्‍पू न हिचका
तनिक न ठिठका
गले का थूक गटका
और बोला
आपके घर का पता ?

अब पप्‍पू के घर का पता
युवती के घर का पता है
क्‍या आपको भी पता है
वो सुंदर युवती कौन है
पप्‍पू तो तब से अब तक
बिल्‍कुल मौन है ?

12 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar September 26, 2009 at 9:39 AM  

पता बदलना तो ठीक...
पर पप्पू घर के अंदर भी घुसा ?

जी.के. अवधिया September 26, 2009 at 9:48 AM  

एक तो पप्पू को पता है, दूसरे आपको और तीसरे ईश्वर को। भला हमें कैसे पता होगा? :)

प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल September 26, 2009 at 10:29 AM  

पप्पू "कान्ट डा़स साला" के बाद पप्पू का ये कारनामा..कुछ खुलासा होना बाकी है..पता तो चले पप्पू का सही पता

M VERMA September 26, 2009 at 10:38 AM  

दिल्ली स्टेशन या नई दिल्ली स्टेशन गया था पप्पू
कौन सी टिकट खिडकी थी
आई मीन खिडकी नम्बर क्या था?
बताईए आप तो पता करके आता हूँ

विनोद कुमार पांडेय September 26, 2009 at 10:39 AM  

बढ़िया आइडीया है पर ऐसी सब के बस की बात नही किसी से उसके घर का पता पूछे और फिर धीरे धीरे इतना बड़ा कारणां हो जाए..

पप्पू को बड़े कमाल के है भाई..
ऐसे में हो सकती थी पिटाई.
पर पप्पू की जादूगरी देखिए,
हिम्मत से काम लिया और हो गयी सगाई.

बढ़िया रचना..मजेदार..बधाई!!!

Pankaj Mishra September 26, 2009 at 11:48 AM  

कारनामा बेहतर रहेगा :)

Nirmla Kapila September 26, 2009 at 3:01 PM  

आज की कविता अच्छी लगी बधाई

Shefali Pande September 26, 2009 at 3:39 PM  

100% kaarnaamaa....

नन्हीं लेखिका - Rashmi Swaroop September 26, 2009 at 3:51 PM  

naa kaarnaama naa kartoot hum to kahenge ise pappu ki karamaat !!!

our great pappu, always rocks, yaaay !
keep rocking !

Ulook September 26, 2009 at 4:44 PM  

अच्छा नहीं हुआ ये
पप्पू की शादी
अब आघे आप के बस मे नहीं रहा

खुशदीप सहगल September 27, 2009 at 12:19 AM  

पप्पू अपना स्मार्ट है...
बोलेगा तो खड़ी हो सकती खाट है...
यही तो मिसेज पप्पू के ठाठ हैं...

अविनाश वाचस्पति September 27, 2009 at 10:12 AM  

पप्‍पू का देखा कारनामा
और टिप्‍पणियां हो गईं
नौ और दो ग्‍यारह

नीचे बॉक्स में लिंकों को क्लिक कर आप संबंधित पोस्ट को पढ़ सकते हैं -

लिंक-प्रतीक-चिन्ह (LOGO) - सबद-लोक

सबद-लोक

मार्गदर्शन -

* सम्पादन -सहयोग : अरविन्द श्रीवास्तव,मधेपुरा , अशोक सिंह (जनमत शोध संस्थान, दूमका), ,अरुण कुमार झा

* सहायता तकनीकी:अंशु भारती

सबद-लोक का लिंक-लोगो लगायें -

अपनी मौलिक-अप्रकाशित रचनायें कृपया इस पते पर प्रेषित करें -

  • डाक का पता- हंसनिवास, कालीमंडा,
  • हरनाकुंडी रोड,पोस्ट-पुराना दुमका,जिला- दुमका (झारखंड) - 814 101
  • ई-पता = sk.dumka@gmail.com
  • और mail@sushilkumar.net
-:लेखा-जोखा:-

__________

______________

  © Blogger templat@सर्वाधिकार : सुशील कुमार,चलभाष- 09431310216 एवं लेखकगण।

Back to TOP